img

MS Dhoni के खिलाफ पूर्व बिजनेस पार्टनर्स ने किया मानहानि का case, 18 जनवरी को होगी सुनवाई

Ansh Gain
1 month ago

MS Dhoni के खिलाफ हुआ case: पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान MS Dhoni के दो पूर्व बिजनेस पार्टनर्स ने Dhoni के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय में मानहानि का मुकदमा दायर किया है। इसकी पीटीआई ने 16 जनवरी को रिपोर्ट दी है।

ये है MS Dhoni के पूर्व बिजनेस पार्टनर्स :-

मानहानि का मामला धोनी के पूर्व बिजनेस पार्टनर मिहिर दिवाकर और उनकी पत्नी सौम्या दास ने दायर किया है। विशेष रूप से, धोनी ने पहले इन दोनों के खिलाफ ₹15 करोड़ से अधिक की धोखाधड़ी के लिए आपराधिक मामला दर्ज किया था।

कपल ने अब धोनी, कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और मीडिया हाउसों के खिलाफ स्थायी निषेधाज्ञा और हर्जाने की मांग करते हुए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है। पीटीआई के अनुसार, इसमें मांग की गई है कि उन्हें उनके खिलाफ अपमानजनक, प्रथम दृष्टया झूठे और दुर्भावनापूर्ण बयान देने, प्रकाशित करने, प्रसारित करने से रोका जाए।

धोनी के खिलाफ मानहानि पेटिशन पर 18 जनवरी को न्यायमूर्ति प्रतिभा एम सिंह की पीठ के समक्ष सुनवाई होगी।

MS Dhoni के खिलाफ पूर्व बिजनेस पार्टनर्स ने किया मानहानि का case, 18 जनवरी को होगी सुनवाई

याचिका में कपल ने ये किया है अदालत से आग्रह :-

अपनी याचिका में, धोनी के पूर्व बिजनेस पार्टनर ने अदालत से आग्रह किया है कि धोनी द्वारा उनसे ₹15 करोड़ के कथित अवैध लाभ और 2017 के अनुबंध के उल्लंघन के संबंध में कथित तौर पर लगाए गए “झूठे आरोपों” के संबंध में उनकी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने से रोका जाए।

आपको बता दे कि धोनी ने स्पोर्ट्स मैनेजमेंट कंपनी ‘आर्का स्पोर्ट्स’ के निदेशक दिवाकर और सौम्या विश्वास के खिलाफ रांची की निचली अदालत में इससे पहले मामला दायर किया था।

ये भी पढ़े :- IND vs ENG, Test: भारतीय टीम 20 जनवरी को हैदराबाद में होंगी इकठ्ठा, विराट कोहली को लेकर भी बड़ी अपडेट

MS Dhoni के वकील दयानंद सिंह ने कहा :-

धोनी के वकील दयानंद सिंह ने कहा कि 2017 में, दोनों आरोपियों ने क्रिकेटर के नाम पर भारत और विदेशों में क्रिकेट अकादमियां स्थापित करने के लिए धोनी से संपर्क किया था। समझौते के अनुसार, धोनी को पूरी फ्रेंचाइजी फीस मिलनी थी और मुनाफा क्रिकेटर और भागीदारों के बीच 70:30 के आधार पर साझा किया जाना था। हालांकि, बाद में, आरोपी ने धोनी को बताए बिना अकादमियां स्थापित करना शुरू कर दिया और उन्हें कोई भुगतान नहीं किया।

दयानंद सिंह ने आगे कहा :-

“एमएस धोनी ने 15 अगस्त, 2021 को अपना अधिकार रद्द कर दिया। इसके बावजूद, उन्होंने लगभग आठ से दस स्थानों पर अकादमियां स्थापित करना जारी रखा… हमने समझौते के मानदंडों का उल्लंघन करने के लिए उन्हें दो बार कानूनी नोटिस दिया। उन्होंने एमएस धोनी को ₹15 करोड़ से अधिक का चूना लगाया।”

आपराधिक मामला पिछले साल 27 अक्टूबर को भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 406 और 420 के तहत दर्ज किया गया था। पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, 12 जनवरी को धोनी द्वारा अधिकृत सीमांत लोहानी ने प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट अदालत के समक्ष अपना बयान दर्ज कराया।

ये भी पढ़े :- आजम खान के पापा की फिटनेस ‘माशाल्लाह’, लोग बेटे को कहते हैं आलू, लड्डू और हाथी

Recent News